Labels

खुदिया आं | Bodo poem by Niran Khakhlari

खुदिया आं                   


 भूम बिखायाव
आं बारसे बिबार,
गेलेना मोसाना
थायो आं रंजा खुसि,
अननायनि सुदेम बारआव।
             
            नागिरो आं थांना थानो
             खुदियानि मोनथाय,
              रोजाब लांनो सानो आं
               खौसेथिनि मेथाई।
खुदिया गोसो आंनि
गोथार साननायजों,
दावगा लांहोगोन हादरखौ
जौगा होगोन जोनोम बिमाखौ।

**************************

निरण खाखलारी                                                      

फोरोंगिरि                                                   

779 नं अदालपारा गुदि -                                            

फरायसालि,बक'

Post a Comment

0 Comments